Wednesday 28 January 2009

Best wishes to u

हर ज़र्रा रौशनी का आपको दिया
हर लम्हा ख़ुशी का आपके नाम किया
दुआओं का सिलसिला यूं ही चलता रहे
तहे दिल से ये आपके दिल को पैगाम दिया
हाँ, मिल नहीं सकते इसका रंज है
इसलिए फासलों से सलाम आपको किया
गर जिंदगी रहे तो इंशाल्लाह एक दिन
आपसे मिलने का वादा सरे-आम किया

No comments:

Post a Comment