Friday, 21 March, 2014

खुद को इतना झुकाओ के जिसके आगे झुको
उसका हाथ तुम्हारे सर पर आकर ठहर जाए,
मगर खुद को उसके क़दमों में यूँ मत गिराओ
के वो तुम्हें ठोकर मार के बेरुखी से गुज़र जाए ...

1 comment: