Friday 21 March 2014


आरज़ू है इक शाम उसके पहलु में बिता आऊं
वैसे भी उसके दर के सिवा जाऊं तो कहाँ जाऊँ
पनाह दैर ओ-हरम में मिली नहीं गुनाहगारों को
अब तेरे दयार पे सर न झुकाऊं तो कहाँ झुकाऊं

दैर ओ-हरम - मंदिर और मस्जिद 

No comments:

Post a Comment