Wednesday 19 March 2014

वक़्त तो हर शख्स दे सकता है मिलने का लेकिन
कोई अपने हिस्से का एक भी लम्हा नहीं दे सकता

No comments:

Post a Comment