Friday, 21 March, 2014

जिन्होंने उजालों की तलाश में सारे दिये बुझा दिए
वो अब रौशनी को तरसते हैं हाथों दियासिलाई लेके...

No comments:

Post a Comment