Wednesday 19 March 2014

वो शायद मसरूफ था और ये दिल भी मग़रूर था, 
तभी दर्द बांटना छोड़ दिया जो हमारा दस्तूर था ..

1 comment: