Friday 21 March 2014

परिंदों परों पे तिनकों का बोझ तब उठाते हैं
जब किसी दरख़्त पर आशियाना बनाते हैं
आसमान छूने का हौसला जब आ जाता है
अपने परों की परवाज़ तब ही आज़माते हैं

No comments:

Post a Comment