Monday 17 December 2012


doston se dosti kar ke bhi  dekh li
dost aksar mujhe bhool jaate hein
unse achche to mere dushman hein
jo mujhe kosne meri dahleez tak aate hein

farq karna doston aur dushmano mein
bahut aasaan lagta hai mujhko aajkal
ke dost rishta jod kar dagaa dete hein
dushman badi shiddat se dushmani nibhate hein

parde mein doston ko rakhna ek fitrat ban gayi hai
baat  baat par log doston se nazar bachaate hein
wo to dushman hi hote hein azeez aapke
jo seena thok kar har raaz bataate hein

bahut faqr hai mujhe mere dushmano par
kam se kam wo mere seene par waar karte hein
un doston se bhi magar koi gila nahi hai mujhe
jo chehre pe hansi aur aasteen mein khanjar chupaate hein

shaayad tum nahi jaante magar shama ka shor bhi hota hai
jab wo jalti hai, pighalti hai mehfil mei to dil uska bhi rota hai....
humne tab tab uske aansuon ki jalan ko mehsoos kiya hai  
jab jab koi parwaana uska daaman apne lahu se bhigota hai....
bazm mein kisi baashinde ko uski roshni se parhez kyunkar ho
jab raat bhar jalne ki sazaa dene wala khud chain se sota hai....

tumse sach kaha nahi jaata
hume bhi sach se kya haasil hua
tera mujhse milkar bhi na milna
meri badkismati mein shaamil hua

Sunday 7 October 2012

ek din ka malaal
agle din tak mat laaiye
gusse mein beete lamhon ko
dobara mat bitaaiye
jo waqt bura lagaa ho
use guzre waqt par chhod aaiye
sirf hansi ke pal yaad kariye
aur hasten hue zindgi bitaaiye

din bhar ke shikwe raat bhar mein mita do
ke ye dil bahut maasoom hai gamon ko rakhne ke liye
aaftaab har roz jung jeet jaata hai andheron se
ke raat ka aanchal chota hai din ko dhakne ke liye
haath jodte hein tere aage, haath kholte hein tere aage
tere aage hi sir jhukaate hein har roz
tujhse dil ki baaten kahte hein teri hi sharan mein aate rahte hein
teri kahaani khud ko sunaate hein har roz
ik tera hi sahara, ik teri hi khawaaish
ik tere hi naam ki alakh lagaate hein har roz
tere aage kuch nahi, tujhse pare koi nahi
is dil se tujhe hi bulaate hein har roz

mujhe abhi apne sapne paane hein
bahut se khwaab sach kar dikhane hein
meri aankhon mein saje adhoore se lagte hein
mujhe ve khwaab dharaatal par laane hein
har raat khareed kar rakh loon
har din rumaal mein chupaa loon
jab safar shuru ho mera
is zameen pe nayi kaaynaat basaa loon

kahin tujhe taaron ki kami na khale
kahin bin phoolon ke kaam na chale
isliye socha khusbooyen aur roshniyan
lekar apni muththi mein dabaa loon

wahan sabaayen bhi le chalenge
wahan fizaayen bhi le chalenge
rang hayaat ko sabhi churaa kar
chal apni aankhon mein samaa loon

jo ghar banega hamara kuch juda hoga
usme mere saath sirf mera khuda hoga
sabke saath usme tujhe bhi sametkar
apne is jahaan ko apne haathon sajaa loon...



mujhe baaton mein uljhaao mat
meri hasti ko aur jalaao mat
haq cheen ke mera jab baant diya
mujhe tukdon se ab bahalaao mat

tasveer ko sau jagahon se toda
lakeeron ko baarhaan joda aur maroda
har kona ab kataa-fataa
naye panno pe usko chipkaao mat

mujhme meri samajh kaafi hai
tumhen apni soch rakhne ki maafi hai
tum beshaq apne liye sachche ho
magar meri soch ko yun jhuthlaao mat...

mujhe baaton mein uljhaao mat...
teri dooriy mujhe tujhse beshaq bekhabar nahi karti
haan, teri nazdeeki bhi ab mujhpe asar nahi karti
waqt ke sailaab ne phir wahin par chhod diya hai hume
jahaan tak teri yaadon ki kishti ab safar nahi karti,,,

junoon-e-ishq chadta tha, utar ta tha taap ke jaise
ab ke jo utra to mujhpe may bhi kuch asar nahi karti
kaun sa woh chaargar hai jo murde ko zinda kar de
saans tooti jo ek baar dobara phir basar nahi karti...

kaun khuda, kaisa khuda gar bharosa uth gaya
to us insaan ki wo khudaai bhi kadar nahi karti
kabhi hawaayen, fizayen, balaayen sab ahwaal deti thi
ab naambar ki chiththiyan bhi teri kabar nahi karti...


uske hone par ab yakeen kahan se laayen
apne ghar ke liye zameen kahan se laayen
wo jo arsh pe basaane ki baaten karta tha
us shaks jaisa fitna haseen kahan se laayen
bankar khuda mere zahan wo mein baith gaya
jo jhuke na jaanib wo jabeen kahan se laayen
uski har baat maan jaane ko ye dil karta hai
jo usko bula le de wo taskeen kahan se laayen
usse pare jaane ka bahana socha bhi nahi
jo toot na saken wo lawahiqeen kahan se laayen
teri mahfil mein hum bhi khade hein dekh to
jo gaur farmaye wo haazreen kahan se laayen ...

arsh - heaven
fitna - magician
zahan - thoughts
jaanib - towards him
jabeen - forehead
takseen - comfort, peace
lawaiqeen - relationship
hazreen - audience

Sunday 23 September 2012


ek din tum meri tasveer se kuch naraaz the
humne apni tasveer apne haathon mita di
jab humne bhi ye hi guzaarish ki tumse
tumne meri baat hanskar hansi mein udaa di
haq maangna to bahut aasaan hai janaab
haq dena par to baat zid par pahuncha di
koi gila nahi magar ek baat zaroor kahenge
ek choti si guzarish bhi bahaano se manaa di ....


likhne ko kai baaten likh sakte hein
kissa-e-mulaaqaten likh sakte hein
magar darte hein zamaane ki nazar se
raaz-e-chaandni raaten likh sakte hein...


raasta dekhte hue kisika, aaj phir shaam ho gayi
din beeta, aur ek aur din ki zindgi tamaam ho gayi
guzarta hua waqt ruka nahi, phir se guzar gaya
meri umeed meri aankhon mei badnaam ho gayi...


haathon mein haath aane se kya jannat naseeb hoti hai
kya kabhi dil se bina mile, dil ki dhadkan kareeb hoti hai
koi bhi fanaa nahin hota raah-e-mohabbat mein yahan
jo ulfat mein majboor ho bus uski haalat ajeeb hoti hai
humne bahut sirfire aashiq dekhe hein is jahaan mein
bhalaa ashiqui bhi kisi shaks ki kabhi najeeb hoti hai??
ab yeh dil kabhi dhokha na khaayega, bus tay kar liya
kyunki dard se abas paane ki bus ye tarqeeb hoti hai....

fanaa - sacrifice
ulfat - love
najeeb - noble
abas - indifference


har ek mujrim munsifi ka kalam uthaaye baitha hai,
doston ki bazm mein khanjar chupaaye baitha hai...
kahin daaman se lipat na jaayen ahbaab-o-yaar
isliye apne hi daaman me aag lagaaye baitha hai...


raat ka habeeb beshaq chaand hota hai,
lekin uska sachcha aashiq aaftaab hai,
chaand aata hai baadlon ke hijaab mein,
aaftaab hamesha rahta be-naqaab hai,
chaand ke aagosh mein rakh kar bhi,
har raat ko sooraj ka itekhaab hai,
kyuki mahtaab ka mijaaz barfana hai,
sooraj ka pyaar ek jalti hui aag hai....

Saturday 22 September 2012


dil de hi diya hai us khuda ne agar to
uska pyaar karna bhi bahut zaroori hai
tum na maano to kahir alag baat hai,
waise  bin ishq ke zindgi adhuri hai
koi shaks nahi aaya is zameen par jo
zindgi bhar is balaa se door rah saka
goya jeene ka sabab chahiye to
ishq karna laazmi hai, majboori hai...

dua se kaam chalta nahi, dawa kahin milti nahi
tere diye dard se aakhrish mile nijaat kaise
kaise sukoon mile zindgi ko, kaise karaar aaye
jahan sirf hum ho, bhalaa mile wo hayaat kaise ...


sulagti saanson ko kuch to karaar de do
chahe ek hi raat ka magar pyaar de do
hum jahaan luta denge tere kadmo pe
tum hume khud par itna ikhteyaar de do
jism rookha rookha sa lagta hai tere bin
is jism choo kar thodi si bahaar de do
khud par se yakin ab uth sa gaya hai
tum mere dil ko ab apna aitbaar de do
meri rooh ko jahan sukoon nijaat ho
kuch der ke liye mujhe wo dayaar de do...

ikhteyaar - haq, right
nijaat - freedom
dayaar - house

मुझे अब भी टूट कर बिखरना आता है
किसी के प्यार में जीना मरना आता है
गर तूने उकसाया तो सच तेरी कसम
मुझे अब भी हर हद से गुज़रना आता है 
गर आइना टूट गया तो परवाह नहीं 
मुझे अपने आप से संवरना आता है 
मेरे क़दमों में आज भी इतना दम है
मुझे तनहा ही सफ़र करना आता है 
तवज्जोह न दी तो क्या जीये नहीं? 
मुझे अपनी साँसों से उलझना आता है 
खुदा के लिए खुदा का वास्ता न देना  
के मुझे उस खुदा से भी लड़ना आता है 

Sunday 16 September 2012


Rishte wahi rahte hein, haalaat badal jaate hein
armaan wahi rahte hein, khayaalat badal jaate hein
tum kya samjhoge jalti shamaa ke sulagte dard ko,
jalaa deti hai parwaane ko jab jazbaat badal jaate hein..

hum dhokhebaazon se khud ko bachaate rahe
sochte the dhokha dena dushmano ka kaam hai
hume kya pataa tha ke dosti ke libaason mein
dushmano ne diya dosti ko farebi ka anjaam hai

ek zamaana beet gaya tera deedaar kiye
ke ab dil ko rokna mere bus mein nahin
sabr kiya beshaq ab besabr hua jaata hai
ab tujhse hijr sach tere hi haq mein nahi....

khud ko badal paana bhi bahut mushkil hai yahaan,
aur duniya ko kisike liye badalte yun bhi dekha nahi..

Sunday 9 September 2012


tasveeren bolti hein mujhse raat raat bhar
jab koi door hokar bhi mere paas hota  hai

deewaron par uski parchai dikhaai deti hai
aur uska saaya mere khwaab mei sota hai

main saans leti hoon uski chhdi saanson se
ye jism uski tapish mein aatishbaar hota hai

kitne khayaal tod dete hein ye soch sochkar
har wo khayaal jo usse agar begana hota hai

apne hi dil se hum  pareshaan ho jate hein
jab wo hume bhulakar uske gum me rota hai

bikhar jaata hai har mulaakat ke baad jo
mera zahan wo ek ek pal baar baar pirota hai...

tum mere kafan mein ek alaav chhod dena
ho sake meri kabr par ek chaadar odh dena
mera jism tere aane tak thanda na ho jaaye
isliye meri rooh ko jalti shamaa se jod dena...


phir ek bhooli si kahani yaad aati hai
phir ek yaad darwaaza khatkhataati hai
jo saaya hum peeche chhod aaye the
us saaye ki parchaai bahot sataati hai
waasta bhi den use ko kis baat ka den
rishte ki dor aaj jodo, kal khul jaati hai
ek soorat jo mere zahan se nikal gayi thi
aaine mein phir wo kyu nazar aati hai...???

unki aankhon mein khud ko dekha tha
garche aansu ke saath unhone hum bahaa diya,
hum chupe baithe the jin kone mein,
kaajal ki dhaar chalaayi aur hume gira diya

Saturday 8 September 2012


phir neenden kahin kho gayin hein, ke dastak palkon par deta hai koi
raat bhar jagaata hai aur phir subah masumiyat se poochta hai 'arre..."
aankhen kyun uneendi si hein, lagta hai kal phir tum jee bhar kar royi
kya kal raat bhar phir jaagi ho tum, kya kal raat tum phir nahi soyi"....

Friday 7 September 2012


har shaks dil mein hazaaron khwaaishen palti hein
sirf chand khwaaishen hi haqeeqat mein dhalti hein
kai  namurad mar jati hein, haalaat se majboor hokar
kai zindgi bhar seene mein chupchaap machalti hein


kabhi aadat, kabhi kismet aur kabhi fitrat nahi milti,
taqdeeren badal sakte hein magar himmat nahi milti...


hamaari subah aati hai, hamaari shaam aati hai
har dhadkan is dil ki magar kyun tere naam aati hai
bahot bekaar si zindgi ho gayi hai yaarab bin tere
koi aur nahi sirf teri yaad hi ab mere kaam aati hai


aag barasti hai aasmaano se aur nazar aansuon se sookh gayi
bhala aisi bhi kya naraazgi e khuda, kya teri rahmat rooth gayi
ab to megh barsa, baarish de, ghar har ke sabko gud- dhaani de
ab to dharti ko chunar oda ab to har khet jo ji bhar ke paani de
phir se bandha de har wo aas, jo tujhe judte judte ab toot gayi
bhar de baadal aasmaan mein, jagaa wo umeed jo chhoot gayi
bhala aisi bhi kya naraazgi e khuda, kya teri rahmat rooth gayi
bula de us baarish ko is baras bhi jo teri khudaai se rooth gayi........




इस दिल में कितने अरमान मचलते हैं

हर रोज़ हम कितनी बार तुमपे जीते हैं

और तुम पर ही तो रोज़ मरते हैं

कितनी बार सांस लेते हैं याद नहीं

जितनी बार भी मगर सांस लेते हैं

हर सांस हर वक़्त तेरे नाम करते हैं

न अहसास होता है सर्द हवाओं का

न ही कभी गर्मी की लू सताती है

तेरे नाम से बस बारिश को याद करते हैं

kal ki baaten sataa rahi hein,
teri yaaden phir aa rahi hein,
teri khushboo jo lipat gayi thi,
meri saanson se ab aa rahi hein....

bahot aasaan tha uska yun raaste badalna muskurate hue
ek baar ruk ke dekh leta mere aankhon mein aasu aate hue


ab tak sarsaraahat baaki hai ,
ab tak khumaar utra nahi,
tera tassavvur hi kaafi hai,
mere hosh udaane ke liye,
kaise raat kati mat pooch,
kaise din guzaarenge maaloom nahi,
shaam ko milne ka waada hai,
ek tasvir bhej de tab tak dil bahalaane ke liye ...



wo naaz dikhaate hein to hum naaz uthate hein 
bhalaa apno ko kabhi yun nakhre dikhaate hein
baar baar roothne ki adaa jaale kahan se aayi hai
hum jitna manaate hein woh utna hi sataate hein...

उदासी बाँट लो अपने दुश्मनों से, ऐसे दोस्त क्या जो उसका सबब बन जाते हैं
इससे तो वो पराये कहीं अच्छे हैं, जो आपके दुखों में दो आंसू बहाने आते हैं


hum na jaante the ke rishte yun badalte hein
mohabbaton ke pal yun parwaan chadte hein
na-ummeediyon ke baad jab aas jaagtii hai to
amaavas ko bhi aasma pe chaand nikalte hein...

aajkal koi kisi ka bhi intezaar nahi karta,
koi kisi beparwaah se pyaar nahi karta,
ye to hamara hausla tha jo nibhate rahe
warna koi kisike liye khud ko bezaar nahi karta..



kya tumne baadlon ko hamare wasl ka kissa sunaaya hai???
lagta hai tabhi saawan bhi tumse ijaazat lekar aaya hai....


lagta hai tumne baadlon ko
hamare wasl ka kissa
kal raat sunaaya hai
tabhi to toot kar dekho
aaj saawan aaya hai....

hamare hijr ka mausam
bhugta zaamane bhar ne
aur milan ki raat ke baad
sara jahaan baarish mein
yun bheeg paaya hai...

hum na jaante the teri
is adaa ki khumaari par
angdaai lega aasmaa bhi
aur yun barsega jaise
uska mahboob aaya hai


har boond barasne se pahle ghabraati hogi
baadalon se bichadne pe aansu bahati hogi
kabhi sochti hogi ke kahan jaakar giroongi
kabhi gir jaane ke darr se darr jaati hogi

kabhi khuli hui seep ka mukhda dekhkar
moti banane ke sapne zaroor sajaati hogi
aur kabhi samandar mein bahti laharon se
apni purani pahchaan par itraati hogi

neeche jungle mein bahte naalon ko dekh
man hi man machliyon se batiyaati hogi
aur kabhi aag mein girne ki soch bhar se
woh bechari choti si boond jal jaati hogi

aur jab barsate megh usko dhakelte honge
chupchaap se rela bankar baras jaati hogi
phir jaise sasuraal mein ram jaati hai dulhan
is zameen mein waise hi ram jaati hogi,,,,



pyaar aur jung mein sab jaayaz hai...

kahin zamaane se ladna padta hai...
kabhi dushmano ko manana padta hai..
kahin muskuraahat mein aansu hote hein
kabhi rote hue bhi muskurana padta hai...

kyunki... pyaar aur jung mein sab jaayaz hai..

Thursday 6 September 2012


ab shabd zubaan par aate nahi
ab dil ke taar jhanjhanaate nehi
jin rishton ko bhoole waqt hua
ab wo rishte hume rulate nahi...

pahle intezaar rahta tha kisika
ab uske liye hum dil dukhate nahi
har saans jis shaks ke naam thi
ab usko yaadon mein bhi laate nahi...

tasveeron se baaten karte the
ab tassavvur bhi uska sajaate nahi
bechainiyon ka sabab banaa tha jo
usko ab khwaab mein bhi bulate nahi..

Monday 3 September 2012

जलती शामों को बुझाने  आ जाओ
एक रात मेरे संग बिताने आ जाओ ...
सुबह का सूरज बेरंग लगे सुबह से
मेरे दिनों को रंग लगाने आ जाओ ....

रात की रानी शब् में खुशबू घोलती हैं 
गजरे की कलियाँ बालों से  बोलती हैं 
जुल्फें तकियें पर बिखरी हैं बेकल हो
अपनी उँगलियों से सुलझाने आ जाओ ...

चंद अरमान अब दिल में मचलते हैं 
तेरे सायों के नीचे मेरे साए पलते  हैं
छावं में, धूप में, बारिशों के रूप में
बदलते मौसम के बहाने आ जाओ ...  

जुबां पर लम्बी उदासी का  पहरा है 
दिल में लगा ज़ख्म अभी भी गहरा है 
बस तुझसे मिलने को बेकरार हुए हैं
मेरी तन्हाई को मिटाने आ जाओ ...

गुंचों को फिकर नहीं बहारों को असर नहीं
किसी को भी मेरी दीवानगी की खबर नहीं 
सारा आलम बेपरवाह हुआ  बैठा है 
तुम ज़माने भर को बताने आ जाओ ...

अब तक मुझसे तेरा इंतज़ार ख़त्म नहीं हुआ
मेरी जिंदगी पर तेरा इख्त्यार ख़त्म नहीं हुआ ..

यूँ तो एक दिन मुकम्मल हो जाता है वक़्त भी
लेकिन इस दिल से तेरा प्यार ख़त्म नहीं हुआ ...

बहारें आकर चलीं गयीं अब पतझड़ का मौसम है
के पतझड़ में भी उम्मीद-ए-गुलज़ार ख़त्म नहीं हुआ..

क्या क्या भुलाएँ दिल से और क्या कुछ दफनायें
मेरी सपनो का मैय्यद-ओ-मज़ार कह्तं नहीं हुआ ...

नश्तर इतने लगे हैं के रूह तक घायल हो गयी
परेशां हैं के अब तक उसका वार ख़त्म नहीं हुआ ...

हमने ज़माने ने में बहुत लोगों को आजमाया है
फिर भी उस एक शख्स पर ऐतबार ख़त्म नहीं हुआ ..

कुछ पल तस्कीनियों के खरीदने निकले थे एक दिन
मगर उसका गम बेचने का बाज़ार ख़त्म नहीं हुआ ..

आज शिकायत कर रहे हैं लेकिन खुद से शर्मिंदा हैं
के किसी से किये वादों का उधार ख़त्म नहीं हुआ ...

Saturday 1 September 2012

मेरे परों पर मेरे आशियाने का भार रहता है
ये नाज़ुक बदन सैकड़ों तिनकों का बोझ सहता है ...
पनाह ढूँढ़ते ढूँढ़ते जिंदगी की शाम हो गयी है
अब एक सहमी हुई रात का इंतज़ार रहता है ...
बिन बोले मेरी बात हो जाती है उस खुदा से 
बिन मांगे अक्सर ठिकाना भी मिल जाता है 
बस नहीं मिलती तो वो चीज़ जो सुकून है 
जिसके लिए दिल-ए-मासूम  बेज़ार रहता है ...
कभी गुजारिश नहीं की, कभी ख्वाइश नहीं की 
बस गुज़ारे किये हर पल को आखरी पल समझ  
एक जुस्तजू रह गयी कहीं कोने में दिल के
वहीँ दिल के जिस कोने में मेरा दिलदार रहता है ..
न हाथों से छूकर न होंठों से लगाकर 
बस आँखों से देख उसे प्यार करते हैं
वो कहीं भी मौजूद नहीं है लेकिन हम 
सपनो में उसका दीदार किया करते हैं....
मेरी सरहदों के पार उसका बसेरा है
मेरी तवज्जो के परे उसकी हस्ती है
बारहां उसके दर से खाली लौटकर भी
सजदे उसी के दर के बार बार करते हैं 
फिर भी उससे किनारा नहीं कर पाते 
के मेरी रूह उसके जिस्म में बसती है
कुछ तो उसमे ऐसा है के उसपर हम  
खुद से ज्यादा ऐतबार किया करते हैं...

जली हुई और जलती रात में फर्क बस इतना है...
एक राख हो जाती है, एक राख कर जाती है

एक हिज्र की बेचैनियों में जला देती है
एक वस्ल-ए-आतिश में ख़ाक कर जाती है

एक उफक के अख्तर तक भी निगल लेती है
एक अमावसी आसमां को महताब कर जाती है

एक रौशनी के उजाले बर्दाश्त नहीं हो पाती
और एक ज़र्रे ज़र्रे को आफताब कर जाती है ...

hijr - separation, wasl-e-aatish - fire of meeting with lover, ufak - horizon, akhtar - stars, mahtaab - moon, zarra - small particle, aaftaab - sun

Sunday 26 August 2012


chupa kar rakha tha taqdeer ko haathon mei
kahin nazar na lag jaaye kahin raqeebon ki
kismet se mila toh raazdaano ne cheen liya
kaun jaanta tha ke wo kartoot thi habeebon ki..


kahte hein woh mujhe ke mujhpe unki nazar rahti hai
yeh hum bhi jaante hein ke woh humse bekhabar nahi...


kambakht mera dil mera hokar bhi
aksar mujhse khafa rahne laga hai
kya kashish hai tujhme maloom nahi
ke aajkal tera dard ye sahne laga hai...


saagar kabhi pyaas bujhaa nahi sakta
saawan kabhi aag lagaa nahi sakta
sab kisse hein sunaane ke waaste
ta umr koi jhootha rishta nibha nahi sakta...


mere zakhmon par malham lagaane ki adaa bhi niraali thi
muskurakar kar wahi haath rakha jo jagah dard se khaali thi
wo raqeebon ki tarah haal-e-dil poochte rahe dard mein bhi
jis habib se meri khamosh nazar zakhm dene par sawaali thi...

raqeeb - dushman, habib - dost, sawaali - questioning

Friday 24 August 2012


tum karo sitam jeebhar, aur hum sahenge
kabhi uff na karenge, chupchaap rahenge
jo unhe aata tha, unhone dil khol k kiya
jo hume aata hai hum shaan se karenge...

saagar kabhi pyaas bujhaa nahi sakta
saawan kabhi aag lagaa nahi sakta
sab kisse hein sunaane ke waaste 
ta umr koi jhootha rishta nibha nahi sakta..

जो सौंधी सी खुशबू तेरे बदन से आती है
जाने क्यों पहली बारिश की याद दिलाती है
जैसे सूखी मिटटी महकती है बूंदों से मिलकर
मुझे बाद वस्ल के वैसी ही महक सताती है...

जूनून चढ़ता है, उतरता है सैलाब की तरह
और मचलती लहरों की तरह बदन लहरातें हैं
धडकनों का शोर शायद सुनता कोई भी नहीं
हाँ, हर सांस तेरी मेरी बिन पीये बहक जाती है ...

आँखें मूँद कर पड़े रहते हैं औंधे से तकिये पर
न हवास रहता है न कोई खोज न कोई खबर
आलम मदहोशी का अंधेरों को मदहोश करता है
चादर उलझ कर हमारे पाँव पाँव से टकराती है ...

तिल तेरे जो दिन के उजालों में दिखते नहीं
रात को उँगलियाँ उन्हें छू छू कर देख लेती हैं
बहुत कुछ पढ़ लेते हैं जो छुपा रहता है आँखों में
नज़र से नज़र अगर भूले से मिल जाती है ...

Thursday 23 August 2012


hasraten  ginte ginte waqt tak mukkammal ho gaya
namuraad dil ki magar ek chaahat bhi poori na ho saki
hamara kya hum to yu bhi ummeeden chhod baith the
intezaar mein lekin aankhen na band ho saki na ro saki

sabr ki taaqeed dekar mujhe lafzon mein uljhao nahi
is mashware ka meri zindgi ke pahluon se milao nahi
main koi ahmak nahi jo ishaaron ko jaan na sakoon
mujhe ye mithi mithi baaten sunaakar samjhaao nahi
gar aa sako to aa jao zamaane ke bandhan todkar
warna ek jhoothi aas is dil mein tum yu jagaao nahi
hausla maine rakha hai ab tak sirf tere kahne par
shart hai magar miyaad waqt ko tum aur badaao nahi...
tum kahte ho so jao kyunki khwaab mein wasl hoga
lekin khwaab dekhne ke liye neend aana zaroori hai
bistar par lete lete sochte hein hum aksar raat ko ke
jab tak neend nahi aati hijr ka aalam ek majboori hai
ginte hein baar baar unhi taaron ko aasma dekhkar
jo taare jataate hein ke humare beech kitni doori hai
chand tumhen bhi dikhta hoga ghat ta badta raat ko
magar bin tumhari nazdeeki ke chaandni adhoori hai...
aainon mein bhi kabhi unhen hum dikha karte the
khud ko wo jab dhoondhte the to hume paate the
mile arse baad to baat karne ko bhi nahi thi bus
hamare beech antheen aur ghahre sannaate the
kyun ye mausam itna satata hai,
sirf tere pahlu ki yaad dilata hai,
mera rom rom chingaari ban kar,
mujhi ko be-saakhtah jalaata hai.
panaah gar milti hai tere aagosh ki,
...
tab kahin thoda sa chain aata hai,
aur tujhse dur hona meri saanson ko
jaane kyun rokta chalaa jata hai....
yaaden bhi tarange hein, bin baat ke bhi machal machal jaati hein,
na jaane kyun kabhi kabhi palkon par baarish ban kar chaati hein...
jisne is dil se khela wo koi paraaya na tha
hum kadam to tha magar humsaya na tha
kyun ye mausam itna satata hai,
sirf tere pahlu ki yaad dilata hai,
mera rom rom chingaari ban kar,
mujhi ko be-saakhtah jalaata hai.
panaah gar milti hai tere aagosh ki,
...
tab kahin thoda sa chain aata hai,
aur tujhse dur hona meri saanson ko
jaane kyun rokta chalaa jata hai....
kya kabhi koi poochta hai ke tum kaun ho
kyu mere wajood se tum is tarah katraate ho
kya naata hai hamara kya tum nahi jaante
kyun mujhe pahchaan ne se mukar jaate ho
kuch khaas nahi bus ek jaan pahchaan thi
warna mujhse wo itne beparwaah na hote
mere zakhm dekhkar yu andekha na karte
agar mere hote to mere dard me wo b rote
haath thaama tha tab waakif n the
ke haathon mein taqdeer basti hai
lakiron mein muqqaddar rahta hai
aur muqaddar se hi kismet sajti hai

har shaks kho jaata hai waqt ke pardon ke peeche,
bus tinka bhar uski soorat yaad aati hai kabhi kabhi....

yu to bujh jaati hai har aag der-saver khud hi magar
koi chingaari rah rah k bhadak jaati hai kabhi kabhi....
...

jo daawa karta hai yaadon ko dil mein rakhne ka,
uski jhooth mooth baaten dil jalati hein kabhi kabhi....

jo milne ki dua karta tha magar aaj mein jeeta hai
bus uski ki baaten dil ko choo jaati hai kabhi kabhi....

ek paigaam, sare aam,
likh diya deewar pe
kisi ne bedharak hokar,
jo kabhi mere liye tha,
magar tab...
...
mazmoon uska tha,
kalam kisi aur ki,
zubaan kisi aur ki aur
ishaara jane ab kis jaanib...
kya tumne baadlon ko hamare wasl ka kissa sunaaya hai???
lagta hai tabhi saawan bhi tumse ijaazat lekar aaya hai....
lagta hai tumne baadlon ko
hamare wasl ka kissa
kal raat sunaaya hai
tabhi to toot kar dekho
aaj saawan aaya hai....
...

hamare hijr ka mausam
bhugta zaamane bhar ne
aur milan ki raat ke baad
sara jahaan baarish mein
yun bheeg paaya hai...

hum na jaante the teri
is adaa ki khumaari par
angdaai lega aasmaa bhi
aur yun barsega jaise
uska mahboob aaya hai
har boond barasne se pahle ghabraati hogi
baadalon se bichadne pe aansu bahati hogi
kabhi sochti hogi ke kahan jaakar giroongi
kabhi gir jaane ke darr se darr jaati hogi

...
kabhi khuli hui seep ka mukhda dekhkar
moti banane ke sapne zaroor sajaati hogi
aur kabhi samandar mein bahti laharon se
apni purani pahchaan par itraati hogi

neeche jungle mein bahte naalon ko dekh
man hi man machliyon se batiyaati hogi
aur kabhi aag mein girne ki soch bhar se
woh bechari choti si boond jal jaati hogi

aur jab barsate megh usko dhakelte honge
chupchaap se rela bankar baras jaati hogi
phir jaise sasuraal mein ram jaati hai dulhan
is zameen mein waise hi ram jaati hogi,,,,

kahin zamaane se ladna padta hai...
kabhi dushmano ko manana padta hai..
kahin muskuraahat mein aansu hote hein
...

kabhi rote hue bhi muskurana padta hai...

kyunki... pyaar aur jung mein sab jaayaz hai..

Monday 30 July 2012


ab tak sarsaraahat baaki hai ,
ab tak wo khumaar utra nahi,
ke tera tassavvur hi kafi hai,
mere hosh udaane ke liye...
kaise raat kati ye mat pooch,
kaise din bitega maloom nahi,
shaam ko milne ka waada hai,
ek tasvir bhej de tab tak dil bahalaane ke liye ...

aajkal koi kisi ka bhi intezaar nahi karta, 
koi kisi beparwaah se pyaar nahi karta, 
ye to hamara hausla tha jo nibhate rahe 
warna koi kisike liye khud ko bezaar nahi karta..


hum na jaante the ke rishte yun badalte hein
mohabbaton ke pal yun parwaan chadte hein
na-ummeediyon ke baad jab aas jaagtii hai to
amaavas ko bhi aasma pe chaand nikalte hein...

Sunday 29 July 2012


ranj uski berukhi se nahi, wo aadatan rookha insaan tha
hume to zakhm uski meethi meethi baaton ne diye hein...


kal ka socho to soch choti ho jati hai
us khuda ke aage kya meri hasti hai
mujhe sirf apna khyaal sataata hai
uski chaya mein sari kaynaat basti hai...


Tere bina ye saawan bhi nahi baras raha,
Sach use bhi humare wasl ka intezaar hai


aag barasti hai aasmaano se aur nazar aansuon se sookh gayi
bhala aisi bhi kya naraazgi e khuda, kya teri rahmat rooth gayi
ab to megh barsa, baarish de, ghar har ke sabko gud- dhaani de
ab to dharti ko chunar oda ab to har khet jo ji bhar ke paani de
phir se bandha de har wo aas, jo tujhe judte judte ab toot gayi
bhar de baadal aasmaan mein, jagaa wo umeed jo chhoot gayi
bhala aisi bhi kya naraazgi e khuda, kya teri rahmat rooth gayi
bula de us baarish ko is baras bhi jo teri khudaai se rooth gayi........


Aaj bhi hamara milan adhoora rah gaya,
aur uspar badal nahi barse..
Jaise nain tere aawan ko tarse ye zameen saawan ko tarse...


wo naaz dikhaate hein to hum naaz uthate hein
bhalaa apno ko kabhi yun nakhre dikhaate hein
baar baar roothne ki adaa jaale kahan se aayi hai
hum jitna manaate hein woh utna hi sataate hein...


उदासी बाँट लो अपने दुश्मनों से, ऐसे दोस्त क्या जो उसका सबब बन जाते हैं
इससे तो वो पराये कहीं अच्छे हैं, जो आपके दुखों में दो आंसू बहाने आते हैं


kal ki baaten sataa rahi hein, teri yaaden phir aa rahi hein,
teri khushbuain jo lipat gayi thin, meri saansen mahka rahi hein..

Wednesday 25 July 2012


ranj uski berukhi se nahi, wo aadatan rookha insaan tha
hume to zakhm uski meethi meethi baaton ne diye hein...

hud-e-parasti ne use guroor ki yun lat lagaa di,
khuda ka banda khud ko khuda samajh baitha


wo muqaddar mein to tha taqdir mein shaamil nahi tha
kismet ne to aksar milaya magar wo mera haasil nahi tha 


bharosa lahron pe karna shaayad ek nasamajhi hi thi meri
wo shaks mera nakhuda to tha magar mera saahil nahi tha


meri shaksiyat ke har pahlu se waakif tha wo muddaton se
lekin meri zindgi ke andheron ujaalon mein daakhil nahi tha


sirf chaahne bhar se yahaan khuda mil jaata nahi kisi ko bhi
wo mohsin to tha garche meri mohabbat ke kaabil nahi tha ...


haasil - gain, nakhuda - boatsman, saahil - shore, shaksiyat - personality, waakif - known, daakhil - admitted, mohsin - benefactor, garche - even though

Monday 23 July 2012


kya hijr ki aatish kaafi nahi thi jalaane ko, 
ke ab tum aag mein utre ho guzar jaane ko?
us sangdil ke jism mein dil nahi paththar hai
jo aadatan bhool gaya wasl ke zamaane ko...


rishton ki baat karte hein, tahzeeb nahi lekin dosti nibhaane ki,
bhalaa kaayaron mein himmat kahan toofaano se takraane ki...
mitti daalne ke baad, kabr mein tabut ko rakha jaata hai, 
log magar jeete jee hi rasam nibhate hein Gul-afshaane ki....


khuda se haath uthaakar maange bhi to kya maange
hasraten yun hi sochne bhar se woh poori karta hai
uske dar pe har wo shaks sajde mein sar jhukata hai
jo us paak parwar-digaar ki rahmaton se guzarta hai


duaon ka asar zaroor hota hai gar dil se maangi jaye
uske naam lene bhar se chehra noor sa nikharta hai
dilon mein basta hai har ek ke, maseeha bankar har 
us maula ki sohbat mein sabka wajood sawarta hai...


mere sab doston ko ramadaan kareem...

Sunday 22 July 2012


doobte ko kabhi tinka bachaa nahi sakta
saagar ki lahron se wo takra nahi sakta
ye to bus ek hausla hai jo bachaa jata hai
ke sahaare ke bina koi paar ja nahi sakta....
khush hone ke liye ye insaan soch leta hai
bahut taaqat hai usme kuch kar guzarne ki
naadaan hai wo khud ko is kaabil samajta hai
ke bin kismet ke wo patta tak hila nahi sakta...


yeh zindgi bhi ek tarfa raasta hai
sirf aage hi aage badte jaate hein
jo manzar ek baar guzar jaate hein
dobara kabhi laut nahi paate hein
bahut log choo jaate hein paas se
bahut log milkar bichad jaate hein
jo rishte jeevan bhar saath dete hein
wo bhi ek din bikhar jaate hein

Saturday 21 July 2012



har shamaa ko parwaana nahi milta
har parinde ko aashiyaana nahi milta
gharonde jo banaate hein tinke jodkar
kai baar unko bhi thikana nahi milta ...
umr daraazi ki duaayen kya karenge
jab kisi ko jeene ka bahana nahi milta
bada hi sangdil hai duniya ka dastoor
yahan maut milti hai aabodana nahi milta...

Monday 16 July 2012


अगर ये जानती के वो मुलाक़ात आखरी होगी
तो तुम्हें उस दिन अपनी साँसों में ही बसा लेती
और जिंदगी उन्ही साँसों को लेकर बिता देती....


अगर ये जानती के वो मुलाक़ात आखरी होगी
तो लहू के कतरे बना तुम्हें रगों में समा लेती
और जिंदगी की रंगीनियाँ उन्ही से सजा लेती....


अगर ये जानती के वो मुलाक़ात आखरी होगी
तो तुम्हें आँखों में काजल की तरह छुपा लेती
और जिंदगी भर बादलों को कालिख उधार देती ...


अगर ये जानती के वो मुलाक़ात आखरी होगी
तो तुम्हें भींच कर इस तरह गले से लगा लेती
और जिंदगी तेरे आगोश है खुद को समझा देती ...

Sunday 15 July 2012

क्या करेंगे हम चाँद का  हमे दीया ही काफी है 
उसकी रौशनी पर सिर्फ मेरा ही इख्तेयार है 
चाँद के नखरे कौन उठाये के उसको गुरूर है 
के ज़माने भर को उसकी चांदनी से प्यार है ....
..
हाँ मेरा दीया सिर्फ मेरे खातिर ही  जलता है 
उस वजूद का हर कतरा मेरे लिए पिघलता है 
और चाँद बेचारा समझ ही नहीं पाता के वो 
खुद जलता है या सूरज के इशारों पे चलता है 
किस किस को बेचारा रोशन करे रात भर के 
ज़माने भर का उम्मीदों का उसपर उधार है ...

मेरा दीया रातभर मेरे घर का अँधेरा मिटाता है 
रोज़ रोज़ खुद को जलाता है और बुझाता है 
और चाँद के उजाले पर कोई क्या भरोसा करे 
कभी अपना आकर बढाता है कभी घटाता  है  
और फिर सो जाता है काली रातों में कई बार 
होता जब भी अपनी ही चांदनी से बेज़ार है ...

Friday 13 July 2012


Jo yaadon mein ho usko bhulaya nahi jaata
jo bhool jaata hai wo kabhi yaad nahi aata...


badaa ajeeb sa dastoor hai is mohabbat ka
kabhi duri sahi nahi jati, kabhi paas aya nahi jata..


sunane ko to kahaniyan banaayi jaati hein
poocho to haal e dil apna bataaya nahi jaata...


paigaam likh kar doston ko to diye jaate hein
ek khat bhi hum tak magar bhijwaya nahi jaata..


log duhaai dete hein apni tanhaaiyon ki harsu
magar saath kisika bhi unse nibhaya nahi jaata


khayaalon mein janam bhar ki baat sochi jati hai
haqiqat mein kabhi bhi unse bulaya nahi jaata


khelte hein aksar jis dil se wo anjaan bankar
raham khakar us dil ko kabhi bahalaya nahi jaata


aadat hai har baat mein sach chupaane ki aisi
suna hai unse khud se bhi sach bataya nahi jata


hum kyunkar pareshaan karenge apno ko aise
jab humse dushmano ko bhi sataya nahi jaata


jitna chaahe begana bane jitna chaahe door jaye
haal-e-dil unka ab duniya se chupaya nahi jaata


uski nazar se berukhi hume zaahir nahi hoti, k
mahfilon mein nazar ko humse hataya nahi jata...

Thursday 12 July 2012


sabr hai ab na karaar hai
bus ek lamba ntezaar hai..
koi dekhe kab tak raah uski
jiske liye dil beemaar hai...
gar roothte hein hum toh
wo manaate nahin kabhi
gar wo roothen hein toh
yeh dil kyu bekaraar hai...
roz roz aisa hi  hota hai
subak kar dil yu rota hai
aansu to udhar bhi hein
iska beshaq aitbaar hai ...
woh raaton ka jaagna
aur needon se bhagna
koi yun hi nahi besabab
hota din raat bezaar hai...
teen lafz bhi poore nahi
do lafz hein adhoore sahi
sirf dhai shabd kah do ab
ke tumhen bhi pyaar hai...

Monday 2 July 2012


हमने अपना इश्क ज़माने में सरेआम कर डाला
खुद ही खुद को जहां भर में बदनाम कर डाला
तुम ने तुम तक पहुँचने के सब रास्ते बदल डाले
मेरे जूनून ने एक पुल बनाने का अंजाम कर डाला
तुम दरवाजों और खिडकियों पर पर्दा करते रहे
मेरी दीवानगी ने आसमान तक को बार कर डाला
तुम मेरे भेजे पैगाम चुपचाप पढ पढ जलाते रहे
हमारे इश्तेहारों ने मगर ख़त का काम कर डाला
ये चारागर भी कितना हैरान है मुझे जिंदा देख कर
के मेरी जिद ने ज़हर को दवाओं का नाम कर डाला
हम चिराग-ए-मोहब्बत जलाते रहे, तुम बुझाते रहे
के मेरी हिम्मत को आधियों ने भी सलाम कर डाला
मुद्दा ये है के तुम तक आंच पहुंचे मेरी फुगाओं की
हमने अपनी हस्ती को आतिश के नाम कर डाला
जो तुम्हें मेरा दिन में बुलाना रास न आया हो कभी
जा हमने अपनी साड़ी जिंदगी को शाम कर डाला
कोई तो जरिया होगा तुम तक आने का ये सोच
हमने अपनी हर रहगुज़र को तेरा मुकाम कर डाला

Sunday 1 July 2012


waqt ne kabhi itna intezaar nahi karwaya
har gadhi kisi shaks ka khyaal yun aaya
sabr karen bhi toh kyun karen bhalaa
barson sabr kiya bhi toh kya paaya???


har lakeer mein ek tajurba chupa hota hai
ke umr nahi gini jaati chehre ki daraaron se ....


चलो माना हम दस्तूर-ए-हबीबी नहीं जानते,
यारी निभाने का सलीका नहीं पहचानते,
फर्क प्यार और दोस्ती में हमें समझ नहीं आता.
इन रिश्तों को निभाना कहीं सिखाया नहीं जाता,
बहुत पशोपेश में पड़े हैं कैसे उन्हें समझायें,
इस कशमकश से  निकलने  का रास्ता कहाँ से लाये,
मगर तुम तो समझदार हो,
इन सब मामलों में बहुत होशियार हो,
तुम्हें तो इन दोनों में फर्क करना आता है
फिर तुम्हारा दिल क्यूँ मचल मचल जाता है,
हमें तो लाख बार दिन रात समझाते हो,
फिर क्यूँ पग पग पर फिसल जाते हो,
कहते हो सिर्फ दोस्त हो हमारे,
कभी बताते हो अपनी जागी रातों के नजारे,
क्या तुम्हे पता है क्या चाहते हो,
क्यूँ हमें समझाकर खुद को झुठलाते हो,
तुम्हे भी शायद इस बात की हैरानी है,
दोस्ती और प्यार के फर्क पहचानने में परेशानी है!!!


याद करना और याद रखना दो मुख्तलिफ बातें हैं
एक में भूलते नहीं और एक में भुला नहीं पाते
कभी जीते जी इंसान यादों का सिलसिला छोड़ देता है
कभी मर कर भी उन यादों से सुला नहीं पाते ...



dard de kar koi yun chalaa jaata hai,
jaise dua de di ho umr daraazi ki...


कुछ कहने के लिए कुछ सुनाने के लिए
जुबां होती है हाल-ए-दिल बताने के लिए
तुम खामोश रह कर अपनी बात कहते हो
हम बोलते हैं अपनी बात समझाने के लिए...


कुछ लोग रिश्तों की अहमियत दूसरों को समझाते हैं
हाँ, मगर मेरे पूछे कुछ सवालों से अक्सर डर जाते हैं
मेरी शिकायत उस एक शख्स से है ज़माने से नहीं
जो मुझसे गिला करते हैं और मुझसे ही आँख चुराते हैं


जूनून इतना के जूनून भी शरमा जाए
हौसला इतना के हर तकलीफ घबरा जाए
सताती है, पकाती है, कभी कभी रुलाती है
और दिन भर मुझे पागल बनाती है
मगर फिर भी मेरी छोटी सबसे अच्छी है
इतनी बड़ी हो गयी मगर अब भी बच्ची है


hijr se koi gila nahi, kyunki woh taqdeer hai
wasl se ilteja nahi, wo sapno ki taabeer hai,
bus meri tamanaayen tujhse mukhaatib hein
aur meri jholi khaali hai, tu dil ka kabeer hai...

kal raat fir hui hai sapno mei adhuri mulaakat
aaj subah phir se dil bechain aur adheer hai
ab to intezaar hai, gum-e-furqat mit jaane ka
yu waqt kab meharbaan ho banta basheer hai..

hijr- separation, wasl - union, ilteja - request, tabeer - base, mukhatib - addressed, kabeer- large, immense, gum-e-furqat- sorrow of separation, basheer - messenger of good news

Thursday 28 June 2012


kab tak raah dekhen uski ya allah
k aane ki koi soorat nahi nazar aati
har roz din bhi khaali khali guzarta hai,
har roz raat bhi khali khaali laut jaati...


sach, humne sabr bhi kiya aur intezaar bhi
humne dillagi bhi ki, aur behad pyaar bhi,
lekin sirf fatwa jaari karna hi aata tha use k
wo n samjha mera izhaar bhi, mera iqraar bhi..

Wednesday 27 June 2012


कोई वादा नहीं कोई करार भी न था
दिल को उसके आने का इंतज़ार भी न था
हम तो उस मरासिम को याद करते रहे
जिस मरासिम पर मेरा कभी इख्तेयार न था

ek ummeed hai, ek intezaar hai,
ek bharosa hai, ek aitbaar hai,
us beparwaah ka jisne kaha tha
ke use bhi mujhse toot k pyaar hai

Tuesday 26 June 2012

कभी अपनी बाजुओं में मेरी कमी खली है?
कभी मेरी चाहत तेरे दिल में पली है?
कभी ऐसा लगा के सर मेरा तेरे काँधे पर हो,
कभी ख्वाइश तेरी मेरे जिस्म में ढली है?
कभी चुपके से यादों ने घेरा है,
कभी लगा मुझपे हक सिर्फ तेरा है,
 कभी रातों को जागते हुए सोचा है,
तेरे प्यार की आग में कोई जली है?
कभी तन्हाई में आंसू बहे हैं,
कभी मेरे ख्याल तेरे ख्यालों  में रहे हैं,
कभी हाथ बड़ाया है नींद में मुझे आगोश में लेने को,
और सांस तेरी तेज़ तेज़ चली है?
कभी महफ़िल में दिल उदास हुआ है
कभी लगा शायद मैंने तुम्हें छुआ है
कभी रास्तों पर चलते चलते भटक कर 
तुम वहां पहुंचे हो जहाँ मेरी गली है??? 


कोई वादा नहीं कोई करार भी न था
दिल को उसके आने का इंतज़ार भी न था
हम तो उस मरासिम को याद करते रहे
जिस मरासिम पर मेरा कभी इख्तेयार न था 

Wednesday 20 June 2012


अब तो पैगाम भी दीवारों पर लिख दिए जाते हैं
कभी शायराना लिबास में कभी नज़्म के लिहाज़ से
ज़रुरत ही नहीं पड़ती रिश्तों में गर्मियां ढूँढने की
हर सवाल का जवाब मिलता है यहाँ एतराज़ से  ...
मिसाल दें भी तो क्या हासिल, के हर गोश में
यहाँ बैठा है कोई अपना ही अपनी ही आज़ से
शक अपनी नीयत पर करना बहुत मुश्किल है
लोग शक पैदा कर देते हैं ख़ूबसूरत अंदाज़ से
हमने घर के दर-ओ-दरवाज़े खोल रखे हैं कब से
देखे कौन दिलाता है निजात मेरे गम-ए-फ़राज़ से
शिकायतें हमे भी बेशुमार हैं उस ना-आशना से
लेकिन अब क्या उम्मीद रखें उस ना-शिनास से
लब खामोश रहते हैं और आँखें झुकी झुकी सी
तकाज़ा भी ना कर पाए किसी भी जवाज़ से
तेरे जानिब मेरी तवज्जो एक शौक है पुराना
वरना छोड़ दिया तुझे देखना गलत नज़र अंदाज़ से ...

gosh - corner, aaz - lust, desire, faraaz - extreme, na-aashna - stranger, na-shinaas - ignorant, jawaaz - excuse, justification

बहुत रात बीतने की बाद भी हर रोज़
किसी के क़दमों की आह्ट सुना देती है
नींद आ आ कर अटक जाती है आँखों में
और पलकें उसके ख़्वाबों पर गिरा देती है
हर गोश ज़हन का उसका तस्सव्वुर करता है
हर पोर नयनों का उसके अश्कों को भरता है
आगोश में जिस्म होता नहीं मगर फिर भी
बाज़ुएँ उसके पहलु में पकड़ कर लिटा देती है...


एक सन्नाटा सा छा जाता है बज़्म में
उसकी चुप्पी अक्सर बहुत बोलती है 
हर तरफ खामोशी का दौर हो जब
उसकी निगाहें मेरा हर लफ्ज़ तोलती है... 

Monday 18 June 2012


sirf aankhon mein basne se unhe taabeer nahi milti,
badaa hausla chaahiye unko haqiqat banaane ke liye,
ek soch kaafi nahi aasmaano ki bulandi choone ko,
khwaabon ko bhi pankh chaahiye unko paane ke liye

नफरतों को छोड़ कर तुम अब जीना सीख लो
नाराजगी में जीकर भला क्या लुत्फ़ आएगा
सारे गिले-शिकवे एक दिन तुम तक रह जायेंगे
जब रकीब तेरा जहां छोड़ कर वहाँ चला जाएगा...



har hassen shai khwaabon mein hi milti hai..
kyunki zindgi ki sachchai bahut be-swaad hoti hai

क्यूँ बेवजह खुश होता है
क्यूँ जार जार रोता है
ये जीवन के रंग हैं
क्यूँ रंगों में यूँ खोता है
जो तेरा नहीं वो किसका है
इस बात में क्या रखा है
सपने अक्सर टूट जाते हैं
क्यूँ सपने तू पिरोता है
जी नफरतों को तज के
तो जीना आसान होगा
ख़ुशी को गले लगाने से
दिल हलका होता है ..
सब दोस्त हैं यहाँ तेरे
कोई भी तेरा रकीब नहीं
जा अपनी जिंदगी को ढूढ़ ला
क्यूँ गम में दामन भिगोता है
कोई आज है वो कल न होगा
जिंदगी का कोई भरोसा नहीं
जब तक है मौज कर यार
क्यूँ कल के लिए आज खोता है


जिंदगी में मुहब्बत को हमेशा
दो पैमानों में नापा जाता है
एक जब आलम बेखुदी का होता है
एक जब बेखुदी के बाद होश आता है
जिंदगी बे-जुबां नहीं मगर
मुहब्बत में बयानी की क्या बातें
एक जब जुबां खामोश होती है
एक जब अहसास लफ़्ज़ों में समाता है
जीने के लिए वक़्त नहीं मगर
नामुराद मुहब्बत के आलम में
कभी दिल सिर्फ यार को ढूंढता है
कभी हर घड़ी उसका ख़याल आता है...


khudaai us khuda ki kisi ko badal na sake...
kismet mein the magar saath na chal sake.

दिन सुबह से ही थका थका आता है
और टूट कर फिर रोज़ गुज़र जाता है
कैसी जिंदगी है दोस्तों के आजकल
वो सूरज भी कम रौशनी दिखता है.....
बस एक भीड़ सी दिखती है हरसूं
और हर आदमी अपने में मसरूफ है
हज़ारों चेहरे किसी अपने के लगते हैं
मगर हर शख्स पराया नज़र आता है ....
सुबह सोचतें हैं के शाम अच्छी होगी
शाम होते ही सुबह का इंतज़ार करते हैं
दिन भर रात का ख्याल चैन नहीं देता
और रात को दिन का डर सताता है ...
अचानक सब बदला सा लगने लगा है
और ये दिल उदास सा हो जाता है
कभी दोस्त दुश्मन दिखाई देते हैं
कभी दुश्मनों में दोस्त नज़र आता है ...
क्या बीतती हुई उम्र का ये खौफ है
या आते हुए वक़्त की दस्तक सुनती हूँ
क्या ये मेरा वहम है या ऐसा ही होता है
क्या सबकी जिंदगी में ये दौर आता है?

Friday 15 June 2012


किस बात का गुरुर, किस बात का गुमान
आखिर तेरा इस ज़मीन पर वजूद क्या है?
क्या तुझे इल्म है कोई कैसे जी रहा है
किसी की जीस्त का आखिर हुदूद क्या है?
तुझे तेरे बेगानेपन की कसम देते हैं
एक बार सोचकर देख बिछड़े हबीब मेरे
किस किस के गुनाहों की सज़ा दी मुझे
तेरी बेवजह नाराजगी का शहूद क्या है?

wajood - existence, ilm - knowledge, jeesat - life, hudood - boundary, habeeb - friend, shahood - manifestation

Thursday 14 June 2012


bade tangdil hote hein jinhe ikhteyaar diya jaata hai
phir har mod par us sangdil ka intezaar kiya jaata hai
tumhari talaash shaayad mukammil nahi hogi kyunki
wo beparwaah hote hein jinhe dil se pyaar kiya jaata hai

un mukaamon par ab barf girti hai,
jahan kabhi teri aane se aatish bhadak jaati thi,
sahra ban kar ujad gaye wo chaman
jahan se kabhi baad-e-naseem aati thi

dard de kar koi yun chalaa jaata hai,
jaise dua de di ho umr daraazi ki...


वोह गालिबन खुद को खुदा समझ कर इतराते रहे
हम आदतन उनके सजदे में सर झुकाते रहे
संग का सीना रखने वाले संग न रहे सके
और हम खुद को काफिर से मुसलमां बनाते रहे ...

ghaaliban - often, sang - marble, kaafir - non- believer, muslamaan - one who worships

bahaaron ne chaman loot lene ka dastoor banaaya hai,
tabhi to khwaaron ko phoolon ke beech ugaaya hai...

intezaar nazar ko nahin, is dil ko hota hai,
nazar sirf aansu bahaati hai, dil jab bhi rota hai..

Tuesday 12 June 2012


कोई ख्वाइश नहीं, अब कोई शिकायत भी नहीं
हम उनसे अब वो जुनूनी मोहब्बत भी नहीं
मेरा हर ख़याल उसके ख्याल से गुज़रता था कभी
मेरे ज़हन में जिसकी अब अहमियत भी नहीं
चुरा कर नीदें ख्वाब देखा करते थे रात भर
मेरी आँखों को उन सपनों की अब आदत भी नहीं
हदों के पार जाना मेरी फितरत थी कभी शायद
मेरी तम्मनाओं में अब उसकी हसरत भी नहीं
खुदा कहने से कोई खुदा बन नहीं जाता यहाँ
के मेरे दिल में उसके लिए अब इबादत भी नहीं
ए काश वो मेरे इन लफ़्ज़ों को समझ ले गौर से
मुझे उसकी आरजू नहीं, मुझे उसकी ज़रुरत भी नहीं...

Monday 11 June 2012


कभी कभी मेरे लफ्ज़ लोगों को चुभ जाते हैं
किसी को अपने दिए दर्द का अहसास कराते हैं
बोलते नहीं सिर्फ सफ़ेद कागज़ पर बिछ कर
स्याही की कालिख में मेरी रातों का रंग छुपाते हैं.


कसम भी खाई हैं, वादा भी किया हैं
तेरे साथ जीने के इरादा भी किया हैं
जिससे जिंदगी का मुकाम हासिल हुआ है
उससे इक्तेज़ा हक से ज्यादा ही किया है ...

दिल का हाल कांच पर लिख कर दे दिया
अब चाहे वो संभाले या फानूस बना ले
वो समझ सके तो खुदा खैर करे
गरचे इकरार हमने कुछ सादा ही किया है ...

इक्तेज़ा - demand, फानूस - lamp of glass, गरचे - even though, सादा - plain, simple

Sunday 10 June 2012


इतनी मुशक्कत के चाँद  पर नक़्शे कदम छोड़  सकता  है 
गर  चाहे तो मेहनत से तकदीर का मुहं मोड़ सकता है 
कौन कहता है आसमान की हदों के पार जाना मुमकिन नहीं 
इंसान कोशिशों से आसमान को भी चद्दर सा ओड़ सकता  है  

Saturday 9 June 2012

हर ख़याल को संजोना और करीने से सजाना 
तन्हाई में फिर हर पल बार बार बिताना 
किसी की फितरत में गुरेज़ी भरी है 
किसी को पड़ता है हर रोज़ समझाना 

एक ही ज़मीन पर कितनी जुदा शक्सियतें 
एक मेरे बिना एक सांस लेने से भी डरता है 
और एक अपनी साँसों का तकाज़ा मुझ से करता है 
एक कहानी बन गया और एक ने लिखा अफसाना 

इंतज़ार का किस्मत ने हसीं सिला दिया 
वक़्त ने फिर जिंदगी के रास्तों पर मिला दिया 
कभी दोस्त समझा था वो शख्स जान बन गया 
और जान का दुश्मन बन गया एक दोस्त पुराना 

Thursday 7 June 2012


देने को तो लोग खुदाई लुटा देते हैं
एक लम्हा मसर्रत को जान गवां देते हैं
फिर हमने कौन सा उनका जहाँ माँगा था
बस एक टुकड़ा आसमां माँगा था ...

वो बज़्म-ओ - महफ़िलें सजाते हैं
दुनिया भर के आशिकों को बुलाते हैं
फिर हमने कौन सा उनका आशियाँ माँगा था
बस एक टुकड़ा आसमां माँगा था ....

वो खुद खुलेआम ख़त भिजवाते हैं
उसपर ज़माने भर से ताकीदें करवाते हैं
फिर हमने कौन सा उनका बयान माँगा था
बस एक टुकड़ा आसमां माँगा था ....

कसमें खाते हैं और वादे भूल जाते हैं
दैरो-हरम के किस्से अक्सर सुनाते हैं
फिर हमने कौन सा उनका ईमान माँगा था
बस एक टुकड़ा आसमां माँगा था....

मसर्रत - happiness, बज़्म-ओ - महफ़िलें- parties, आशियाँ - house,
ताकीदें -orders, बयान - explanation, दैरो-हरम - places of worship, ईमान - Conscience

Wednesday 6 June 2012


हर इंतज़ार की एक मियाद होती है
हर रिश्ता वक़्त के साथ बदलता है
कौन उम्र भर साथ देता है किसी का
कौन पग पग आपके साथ चलता है

दामन थामना कोई बड़ी बात नहीं
दामन थाम कर रखना दिलदारी है
रंजिश दिल में कोई रखे तो रखा करे
मेरा नसीब अब उसकी हथेली में पलता है

मुझे गुरुर है अपने इन्तिखाब पर
एक ऐसा शख्स जो शातिर नहीं
वो जो सिर्फ मेरे लिए ही जीता है
वो जो सिर्फ मेरे रंग में ढलता है ....

Tuesday 5 June 2012

दिल के ज़ख्म उसको बार बार दिखाते रहे 
यूँ ही जुर्रत करते रहे और करके घबराते रहे
उसने हमेशा की तरह वादा किया मिलने का 
हमेशा की तरह हम उसकी बातों में आते रहे ...

रिस रिस कर जो एक नासूर सा बन गया था 
मेरे वो घाव मेरे अपने हाथ ही सहलाते रहे   
मुझमें गैरत है गुरुर नहीं, ये बता न सके 
बाकी दुनिया ज़माने की बातें उसको बताते रहे...

इंतज़ार का न सबब था न सवाल था न मलाल था 
फिर भी लुत्फ़-ए-इंतज़ार बेसबब उठाते रहे 
एक दौर था सदियों का जो एक दिन में बीत गया
और हम बीते हुए दौर का गुंजल सुलझाते रहे...

क्या गिला करें जब उसको परवाह  ही नहीं
दिल को ये बात हम अक्सर समझाते रहे 
एक अरसा गुजरने के बाद ये अहसास हुआ
उससे  अब आशनाई न थी जिसको आशना बनाते रहे..
 
फिर एक खुदा बदला खुदा की रहमत बदली 
और हम उसकी रहमतों के आगे सर झुकाते रहे 
अब  मिला जो एक रहनुमा नसीब बनकर 
आज तो दिन भर हम अपनी तकदीर पर इतराते रहे... 

क्या है तुम में, क्यूँ इतना सताते हो
क्यूँ चैन नहीं पड़ता, क्यूँ इतना याद आते हो?
क्या कमी है मेरे प्यार में इतना ही बता दो
किस लिए मेरा दिल बार बार तोड़ जाते हो...


कुछ तो रही होगी पहचान हमारी पिछले जन्मों की
कुछ तो सबब होगा मेरी इस दीवानगी का 
कुछ तो है जो किसी को नज़र नहीं आता 
कुछ तो है जो तुम इतना दिल लुभाते हो....


मुझे जीना तुम बिन एक सज़ा लगने लगा  है
तुमसे दूर मेरा वजूद क़ज़ा सा लगने लगा है
हर वक़्त एक डर रहता है तुमसे बिछड़ने का 
मेरे मासूम दिल को क्यूँ इतना रुलाते हो 


मेरी सुबह तुम्हारे नाम से शुरू  होती है
मेरी रात तेरे नामे से बिस्तर में गुज़रती है 
मौत दे दो अगर साथ नहीं दे सकते मेरा
दूर रह कर क्यूँ हर वक़्त मेरा दिल जलाते हो 

Saturday 2 June 2012


kitne zakhm dikhayen, kitne chupkar rakhen
dard ki intehaa itni ke aah nikal hi jaati hai
roz subah unke naam se aankh kholte hein
har roz raat ko unki yaad behad sataati hai...



जब धूप तेज़ होती है तो अपनी परछाई ही पाँव बचाती है
रात के स्याह अंधेरों में अपनी नींद ही आगोश में बुलाती है
दिल की धड़कने जब बढती हैं दर्द में, परेशानियों में
अपनी ही हथेली, मासूम दिल को प्यार से सहलाती है

अपनी जिंदगी की लड़ाई इंसान अक्सर खुद लड़ता है
बेवजह वक़्त ए गर्दिश में गैरों का दामन पकड़ता है
ये तो तकदीर की कहानियाँ हैं जो लकीरों में छुपी हैं
और खुद तकदीर ही वक़्त बे वक़्त ये हिकायतें सुनाती है

हार मानोगे तो सिर्फ हार का ही सामना होगा
जीत क्यूंकि सिर्फ इरादों में बसा करती है
खुद को तूफ़ान समझो और जिंदगी को एक चट्टान
के तूफानी हवा अक्सर अपना रास्ता खुदा बनाती है....


रूठा उनसे जाता है जो मना ले,
कभी प्यार से कभी डांट कर वापस बुला ले
जिस से रिश्ता निभाना इक बोझ लगे,
अच्छा है वक़्त रहते उससे पीछा छुड़ा ले

मेरी जिंदगी कोई रुका हुआ तालाब नहीं
मेरी जिंदगी एक उफनती नदी है
जिसको समंदर भी खोजेगा एक दिन
ताकि मेरी हस्ती में खुद को समा ले

रास्तों में मिल ही जाते हैं मुसाफिर अजनबी
कोई आशना बन जाता है कोई अघ्यार
मुझे उस रहबर की तलाश है आज तक
जो मेरी मंजिल को अपना समझ अपना ले....

Sunday 27 May 2012


जिस हाल में वो रखता हैं, मुस्कुराते हैं
हर ख़ुशी हर गम में तेरे दर पे आते हैं
खुदा की नेमत में क्या छुपा खुदा जाने
हम सिर्फ शुकराने में अपना सर झुकाते हैं ..