Wednesday 27 June 2012


कोई वादा नहीं कोई करार भी न था
दिल को उसके आने का इंतज़ार भी न था
हम तो उस मरासिम को याद करते रहे
जिस मरासिम पर मेरा कभी इख्तेयार न था

No comments:

Post a Comment