Friday 24 August 2012


जो सौंधी सी खुशबू तेरे बदन से आती है
जाने क्यों पहली बारिश की याद दिलाती है
जैसे सूखी मिटटी महकती है बूंदों से मिलकर
मुझे बाद वस्ल के वैसी ही महक सताती है...

जूनून चढ़ता है, उतरता है सैलाब की तरह
और मचलती लहरों की तरह बदन लहरातें हैं
धडकनों का शोर शायद सुनता कोई भी नहीं
हाँ, हर सांस तेरी मेरी बिन पीये बहक जाती है ...

आँखें मूँद कर पड़े रहते हैं औंधे से तकिये पर
न हवास रहता है न कोई खोज न कोई खबर
आलम मदहोशी का अंधेरों को मदहोश करता है
चादर उलझ कर हमारे पाँव पाँव से टकराती है ...

तिल तेरे जो दिन के उजालों में दिखते नहीं
रात को उँगलियाँ उन्हें छू छू कर देख लेती हैं
बहुत कुछ पढ़ लेते हैं जो छुपा रहता है आँखों में
नज़र से नज़र अगर भूले से मिल जाती है ...

No comments:

Post a Comment