Friday, 6 February, 2009

कौल

ये नज़रें उस दुनिया का नज़ारा देखती हैं
जिसमें अब देखने लायक नजारे ही नहीं...
उनकी पहचान क्या होगी क्यूँ होगी भला
जो कब से हमारे होकर भी हमारे ही नहीं
****


तेरे कौल तेरे करार काफी हैं भरम पैदा करने को
अब कसम देकर अपनी, फिर ईमान न बेईमान कर...
मेरा नाम ले लेकर यूँ जो पुकारा करे हर दम
ए हबीब मेरे आ सामने आ, यूँ दूर से परेशान न कर..
***


मेरे हबीब मेरी हस्ती क्या, कुछ नहीं
ये नज़रे करम आपकी निगाहों का है ...

No comments:

Post a Comment