Monday 30 May 2011

हमारे हिस्से का आसमान एक दिन कदमों के नीचे होगा ,
हमारे हिस्से की ज़मीं पर बादल बिछ जायेंगे ,
तकदीर को लकीरों में सब ढूंढते हैं सभी, मगर ,
अपनी तकदीर की लकीरें भी हम खुद बनायेंगे ...

No comments:

Post a Comment