Sunday 12 February 2012

आंसुओं से भी अब क्या शिकवा करे कोई
ये मासूम सिर्फ दिल का दर्द बयान करते हैं
रोता दिल है मगर दिल के पास कोई जरिया नहीं
इसलिए बेचारे आँखों के रास्ते निकलते हैं

No comments:

Post a Comment