Sunday, 12 February, 2012

याद बे पैर हर उस जगह आती है जहाँ उसका ख्याल आता है
महफ़िल हो या तन्हाई, याद का एक लम्हा सौ दर्द जगाता है

No comments:

Post a Comment