Sunday 12 February 2012

याद बे पैर हर उस जगह आती है जहाँ उसका ख्याल आता है
महफ़िल हो या तन्हाई, याद का एक लम्हा सौ दर्द जगाता है

No comments:

Post a Comment