Wednesday 19 November 2008

एक अनजाना

कोई बंद दरवाजा दोबारा खटखटा रहा है
एक अनजाना शख्स करीब आ रहा है
अंदाज़-ए-बयानी का अंदाज़ कुछ नया सा है
हाल-ए-दिल पहेलियों में सुना रहा है

गुपचुप सारे जहां का हाल बताता है
हर रोज़ एक नया किस्सा सुनाता है
मेरे कानों में हौले से गुनगुनाकर
न जाने कितने गीत बुनता जाता है
हजारों ख्वाब मेरी सूनी पलकों पर
अपने हाथों से सजा रहा है
कोई बंद दरवाजा दोबारा खटखटा रहा है
एक अनजाना शख्स करीब आ रहा है

मेरी धडकनों में अपना नाम सुनता है
मेरी साँसों से अपनी साँसें चुनता है
उसकी कोशिशों की क्या मिसाल दूं, के
उनको कामयाबी का जरिया बना रहा है
कोई बंद दरवाजा दोबारा खटखटा रहा है
एक अनजाना शख्स करीब आ रहा है


******

आपके खाव्बों की रहगुज़र से मेरा रस्ता भी गुज़रता है
तस्कीनियाँ आपकी आरजू है, शादमानी मेरी हसरत हैं

4 comments:

  1. कोई बंद दरवाजा खटखटा रहा है............
    बहुत ही सुन्दर

    ReplyDelete
  2. meri dhadhkano mai apna naam........
    bahut khub bahut sundar rachna........

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर रचना हैं.... कृप्या जारी रखे इतना सुंदर लिखना... :)

    ReplyDelete