Thursday, 6 November, 2008

किस्मत

दिल के अमीर अक्सर जेब से फकीर होते हैं
बे-ज़मीरों की इस दुनिया चंद ही बा-ज़मीर होते हैं
हक छीनने वाले चप्पे चप्पे पे मिल जायेंगे लेकिन
हक का देने वाले शुमार में बसीर होते हैं
हंस दे कोई मुफलिसी में तो खुदा का नेक बन्दा है
गरीबी में ही इंसान नानक और कबीर होते हैं
जुल्म करना आदमी की फितरत में मौजूद है
ज़ुल्म सहने वाले आदमियत की तामीर होते हैं
तू गम न कर, यहाँ हर तरह के लोग हैं
कोई तकदीरवाले हैं कोई किस्मत से हकीर होते हैं

1 comment:

  1. Very philosophical…. So nice Rita…. Thanks and keep it up… आपके लिखे शब्दों का पड़ने वाले के दिलों-दिमाग पे सुंदर असर जरुर होता हैं... :)

    ReplyDelete