Monday, 25 April, 2011

तुम्हारी संगदिली का अब क्या शिकवा करें
रात रकीब के पहलू में बिता दी
और सुबह कितनी मासूमियत से
हमे एक मीठी सी आवाज़ लगा दी

No comments:

Post a Comment