Wednesday 9 October 2013

us maashooq ka kya jo jud kar bhi juda ho gaye
parasti ki khwaaish ki aur khud hi khuda ho gaye...

उस माशूक का क्या जो जुड़ के भी जुदा हो गए
परस्ती की ख्वाइश की और खुद ही खुदा हो गए

No comments:

Post a Comment