Wednesday 17 September 2008

मेरी तमन्ना

मेरी तमन्ना न कर ए दीवाने
मेरी हस्ती ही क्या है इस ज़माने में
यहाँ हर मोड़ पे हुस्न पड़ा हुआ है
हर कोना इश्क से सजा हुआ है
पहनके रिश्तों के तागे
ओद ले रास्तों के साए
के यहाँ हर रहगुज़र पे
कोई अपना ही खडा हुआ है

3 comments:

  1. bahut sunder likha hai...dil ko chu gaya hai

    ReplyDelete
  2. के यहाँ हर रहगुज़र पे
    कोई अपना ही खडा हुआ है...
    kash aapki yeh line Terrorist bhi jaan pate...
    umda rachna..
    jari rahe

    ReplyDelete
  3. behut behut sunder Rita.. pahan ke riston ke taage, od le raaston ke saaye... very warm and beautiful... duniya maananaa chod de per ek kavi ka dil rishton, pyaar aur ummid ko baandhe rekhata hain.. aur woh bhi nirasha aur bichadne ko bhi saath saath lete huye.. aapkon badhaayi

    ReplyDelete