Friday 5 September 2008

लाश की मंडी लगती है....

चौराहे पे

ये दुनिया कितनी खूबसूरत दिखती है
मगर यहाँ इंसानियत हर मोड़ पे बिकती है
ए दोस्त, न आंसू बहा किसी भी जनाज़े पे
के हर चौराहे पे लाश की मण्डी लगती है

कहीं खून खून को नही पहचानता
कहीं बचपन की कहानी जवानी में ढलती है
ए दोस्त इस ज़मीन पे ऐसा भी होता है
औरत की आबरू सरे-आम लुटती है...

सिर्फ मतलब की इस दुनिया में
हर चीज़ की कीमत होती है
हर शय का सौदा होता है
हर रूह पे बोली लगती है

3 comments:

  1. bahut acha likha hai or sacha bhi...
    jari rahe...
    keep it up

    ReplyDelete
  2. behut behut sunder vichaar hain Rita...
    yehi sab toh ho reha hain aajkal hamaare aaspaas... kuch pangtiyon main he aapne sab kuch kehe diya.. :)

    ReplyDelete