Friday 19 September 2008

दुआ के साथ


इस दिल न पूछ ए दोस्त
इसमें सिर्फ प्यार है
अपने दोस्तो के लिए
दुआएं बेशुमार हैं
इस प्यार की हदें कोई रिश्ते से नहीं बंधी
इस प्यार में कोई उमीदें भी नहीं
इस प्यार का जज्बा पाक है
के इसमें एक अटूट ऐतबार है
अपने दोस्तो के लिए
दुआएं बेशुमार हैं

No comments:

Post a Comment