Wednesday, 27 August, 2008

इक जनम जी आयें

इक जनम जी आयें
चलो
उन पलों को फिर दोहराएँ,
जिसने हमें जीने के,
नए ज़रिये दिखाए
चलो,
उन लम्हों में,
फिर घूम आयें,
जहाँ हमने ज़िन्दगी के.
हसीं पल बिताये,

चलो,
उस वक़्त को,
कहीं से खोज लायें,
जो तुम्हारे साथ,
कहीं थम न जाये,
चलो,
यहाँ से दूर,
बहुत दूर जहाँ,
ये धरती ये आसमान,
हमारी तरह,
इक हो जाये,
चलो,
इक बार
फिर वहाँ जहाँ हम,
थोड़े वक़्त में,
इक जनम जी आयें

No comments:

Post a Comment