Wednesday 27 August 2008

रिश्ता

इक रिश्ता,
न चाहतों का,
न जरुरतो का,
न गमगिनियों का,
न फुरकुतों का,
न ना-उम्मीदियों का,
न उम्मीदों का,
न बंदिशों का,
न सहूलतों का,
सिर दोस्ती का,
प्यार का,
,और मस्सर्रतों का..
इक रिश्ता,
न इन्तिजारों का,
न इम्तिहानो का,
न इब्तिदाओं का
न इन्तिहाओं का,
न अशिकियों का,
न दिल्गिरियों का,
न दूरियों का,
न मजबूरियों का,
सिर्फ दोस्ती का,
प्यार का,
और नजदिकियों का,
तुम ये इक रिश्ता कुबूल करोगे,
क्या मुझसे दोस्ती करने की भूल करोगे?

No comments:

Post a Comment