Thursday 28 August 2008

आशिक

मेरा भी एक आशिक था जो जाने कहाँ खो गया
मुद्दत हुई है उसका जूनून-ए-इश्क सो गया
अब तुमसे हाल-ए-दिल न बांटे तो क्या करें
जो दिल में बसता था वो कब से पराया हो गया

न खोज खबर लेता है अब न अपना हाल बताता है
न जाने क्यों अब वो हमसे नज़र चुराता है
वक़्त था हमारा कभी अब वक़्त किसी ओर का हो गया
मेरा भी एक आशिक था जो जाने कहाँ खो गया

No comments:

Post a Comment