Tuesday 26 August 2008

हमारा सुरूर

हम वो परवाने हैं जो शमा को रौशन करते हैं
हम वो परवाने नहीं जो शमा पे मचलते हैं
चुपचाप फना होना फितरत नहीं हमारी
हम पे शमा के आंसू मोम बन पिघलते हैं

महफिलों में जाना नहीं शौक है हमारा
हम से बज्म आबाद होते हैं और चलते हैं
जहाँ बैठे शाम को वहीं दौर चलता है
जहाँ सोये रात वहीं तारे निकलते हैं

न मय, न मीना, न साकी, न पैमाना,
हम इन नशों से दूर होकर चलते हैं
मगर सरूर का करें तो क्या करें
के हमारे ही नशे में यार हमारे ढलते हैं...

No comments:

Post a Comment