Wednesday 27 August 2008

इकरार

आपके सब्र के पैमाने के,
छलकने का इंतिज़ार है,
ये हम जानते हैं कि,
दिल आपका बेकरार है,
न मानो न बताओ न सही,
मगर बहुत थोड़ा सा,
आपको भी हमसे प्यार है....

न न हम इसका दावा नहीं करते,
न ही आपके ऊपर,
हमारा कोई इख्तियार है,
मगर ये बेबुनियाद ख्याल नहीं,
जी आपका भी दिल हमारा,
तलबगार है,
आपको भी हमसे प्यार है....

No comments:

Post a Comment