Wednesday 27 August 2008

दोस्ती इल्जाम नहीं दुआ है

बदनामी में भी एक नशा है
इश्क में नाकाम होने से दर क्यों
पहली नाकामी ही इश्क की इब्तदा है...

जज्बात तो बहुत हैं सीने में
लेकिन हर जज्बात का अपना एक मज़ा है
इश्क हुआ तो ज़िन्दगी खुशगवार है
न हुआ तो जीना ही सज़ा है ....

No comments:

Post a Comment