Wednesday, 27 August, 2008

हर रोज़. ......

हर रोज़ ज़िन्दगी एक शख्स के नाम से शुरू होती है
हर रोज़ रात को मायूस सी फिर सो जाती है ,
गरचे उस शख्स की बातें और उसकी यादें ,
ख्याल बन के ख्वाबों को सजाती है

अश्क कहें या के चश्मे -आबशार कहें ,
कुछ तो रोज़ ये आँखें बहाती हैं,
एक पत्थर सा दिल पे रहता है शब भर
एक आतिश है जो हिज्र में जलाती है ....

No comments:

Post a Comment