Saturday 30 August 2008

पुराने दोस्त

पुराने दोस्त पुराने यार पुराने सपने और पुराना प्यार
कभी भुलाए से नही भुलाए जाते हैं
जिंदगी के पेचीदा मोड़ो पे जब तनहा होते हैं
तब अक्सर वो सब रह रह के याद आते हैं....
वो किस्से वो कहानियां वो शरारतें वो छेड़खानिया
वो किताबों की जिल्द पे सजा के नाम लिखना
वो खट्टी मीठी इमली के लड्डू और कच्चे आम
उम्र के इस पड़ाव पे जब तब अतीत को वापस बुलाते हैं

3 comments:

  1. usahi kaha aapne pta nhin inhen kaun sa aasheerwad mila hai ki lg bhar jaayen kisi ke gale .
    waise ek bat hai rita ji ki jeenen ke aadhar bhi yhi hai. kyonki kaha bhi gya hai ki ,"sathi re tere bina bhi kya jeena ' tow kyon naa yadon ko hi sathi mana jaaye .

    ReplyDelete
  2. kya bat hai rita ji...
    blog ab acha lag raha hai..
    or us par likhi apki rachnayein to kya kahne acha likh rahin hai likheti rahein...

    ReplyDelete