Tuesday 26 August 2008

अब उसकी खुदाई में ज़बीं को झुकाना है

यार से दूरियों का सीने में कहीं ज़ख्म बरकरार है
दिल कमबख्त से उसका मगर अब तक याराना है
हिकायतें ख़त्म हो गयी सारी हम दोनों के बीच की
मेरी कहानी आज भी मुहब्बत भरा एक अफसाना है

कोई गैर तो नहीं बाद उसके जो आया जिंदगी में
के दुनिया में अब मेरा एक और भी दीवाना है
जिसको अहसास है मेरे दर्द का, मेरी तन्हाई का
तो क्या हुआ वो अब तक एक अनजाना है

फिर एक कोशिश करें शायद शक्ल बदल जाए
के नैनो में बसा सूरत-ए-यार बेशक पुराना है
दीदार गरचे जिसका अब दिन रात होता है
क्या करुँ वो शख्स अब तक बिलकुल बेगाना है

बदनामियों से डरके जीना मैंने सीखा नहीं के
रुसवाई का ताज पहनाने वाला ज़माना है
हबीबों से दोस्ती कुछ महंगी पड़ी इसलिए
पनाह में लेनेवाला एक रकीब बनाना है

जिसके लिए शीशा-ए-दिल टूट गया मेरा
एक बार उसको उसका चेहरा आईने में दिखाना है
दिल में नश्तर सद् लगे और फुगाँ उसने ना सुनी
हाल-ए-दिल सुना के अब हर अश्क का हिसाब चुकाना है


एक नए रिश्ते की बुनियाद अब जो हासिल हो गयी
पुर-सुकून नीयत से उसके करीब जाना है
मुद्दत से सिर उठाये खड़े से खुदा के आगे
अब उसकी खुदाई में ज़बीं को झुकाना है

1 comment:

  1. एक नए रिश्ते की बुनियाद अब जो हासिल हो गयी
    पुर-सुकून नीयत से उसके करीब जाना है
    मुद्दत से सिर उठाये खड़े से खुदा के आगे
    अब उसकी खुदाई में ज़बीं को झुकाना है..
    acha likha hai
    pr ye word veryfication kyon nahin hataya... Miss Rimjhim?
    ise hata dijiye..

    ReplyDelete